संविधान की सिपाही

एक संस्मरण

Teesta Setalvad

9789380118611

LeftWord Books, New Delhi, 2017

188 pages

Price INR 250.00
Book Club Price INR 175.00
SKU
pro_1793

Maximum number of characters: 50

Maximum number of characters: 50

Maximum number of characters: 50

तीस्ता सेतलवाड़ कौन हैं?

हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए वो देश के विकास में एक ख़तरनाक बढ़ा हैं। इस किताब में तीस्ता सेतलवाड़ की अपनी कहानी है। वो तीस्ता, जो भारत के स्वाधीनता संग्राम की सबसे प्रगतिशील परंपरा की वंशज हैं। वो तीस्ता, जो न्याय के लिए लगातार लड़ती आई हैं। बेहद हिम्मत और ताकत के साथ।

अपने संस्मरणों में तीस्ता बहुत सी बातें करती हैं : उन पर उनके दादा का प्रभाव; पत्रकारिता में पहला कदम; बाबरी मस्जिद ध्वंस के बाद 1992-93 में मुंबई में भड़की हिंसा; साथी जावेद के साथ उनका सह-कार्य; और गोधरा के बाद गुजरात में हुई हिंसा।

तीस्ता जितनी कर्मठ हैं उतनी बहादुर हैं, जितनी संवेदनशील उतनी प्रेरणादायक। उनकी ज़िन्दगी भारतीय संविधान के लिए प्रतिबद्धता की मिसाल है।

Teesta Setalvad

Teesta Setalvad is a senior journalist, educationist and activist. She is co-editor of the monthly Communalism Combat, along with Javed Anand. Setalvad is involved with broadening the boundaries of history and social studies teaching through KHOJ, a programme for secular education, and has worked extensively on exclusion and communalization in school curricula and textbooks. She has analyzed and documented the communalization of India's law and order machinery, and the building up of communal conflict in Gujarat, since the early 1990s. Trained also in law, Setalvad was convenor of the Concerned Citizens Tribunal – Crimes Against Humanity, Gujarat 2002, headed by Justices V.R. Krishna Iyer, P.B. Sawant and Hosbet Suresh. She is secretary of Citizens for Justice and Peace (CJP), a civil rights group set up by her and other concerned citizens of Mumbai in April 2002.