कबहूं ना छाड़े खेत

दिल्ली के दरवाज़े पर किसान की दस्तक

Pranjal

Edited by Pranjal

Introduction by Hannan Mollah

978-81-950310-9-2

वाम प्रकाशन, New Delhi, 2021

Language: Hindi

108 pages

5.5 x 8.5 inches

Price INR 95
Book Club Price INR 67
now INR 60
2 days left
SKU
LWB949

आज़ाद हिंदुस्तान के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि लाखों के हुजूम ने राजधानी को चारों तरफ़ से घेरा और एक स्वर में सरकार से गुहार की। 2020-21 का किसान आंदोलन इतिहास में दर्ज रहेगा। दिल्ली की कड़ाके की ठंड और बारिश में भी किसानों के हौसले बुलंद रहे।

शांतिप्रिय ढंग से देश के अन्नदाताओं ने मोदी सरकार के सामने पहाड़ जैसी चुनौती खड़ी करते हुए यह स्पष्ट कर दिया कि उन्हें कॉर्पोरेट की ग़ुलामी मंज़ूर नहीं है। यह लड़ाई खेती ही नहीं बल्कि देश के स्वाभिमान और आत्मनिर्भरता को बचाने की लड़ाई है।

यह किताब इन्हीं संघर्षों की आवाज़ों का संकलन है। क्यों इन क़ानूनों को लागू किया गया? क्यों यह कदम देश के किसान और उन पर निर्भर अनेकों को बदहाली की तरफ धकेलेगा? क्यों इन क़ानूनों का असर सिर्फ़ किसानों तक सीमित नहीं है? इन्हीं सवालों का जवाब ढूंढ रही है यह किताब।

लेखक: इरशाद खान सिकंदर, हन्नान मोल्ला, सुबोध वर्मा, प्रभात पटनायक, तेजल कानितकर, जूही चटर्जी, एम श्रीधर आचार्युलु, तारिक अनवर, रवि कौशल, नाज़मा खान, रौनक छाबड़ा, मुकुंद झा, भाषा सिंह, अमनदीप संधू, विक्रम सिंह, लेज़ली ज़ेवियर, पी. साईनाथ

Hannan Mollah

Hannan Mollah is the General Secretary of the All India Kisan Sabha. He is a former Member of Parliament, having been elected eight times to the Uluberia constituency in Howrah district of West Bengal.

Pranjal

Pranjal is a journalist and activist who works with Newsclick. He has been associated with the student movement for a long time.