Apaar Khusi Ka Gharana

9789388753586

Rajkamal Prakashan, New Delhi, 2019

Language: Hindi

425 pages

Price INR 399
Book Club Price INR 340
SKU
LWB541
‘अपार ख़ुशी का घराना’ हमें कई वर्षों की यात्रा पर ले जाता है. यह एक ऐसी कहानी है जो वर्षों पुरानी दिल्ली की तंग बस्तियों से खुलती हुई फलते-फूलते नए महानगर और उससे दूर कश्मीर की वादियों और मध्य भारत के जंगलों तक जा पहुँचती है, जहां युद्ध ही शान्ति है और शान्ति ही युद्ध है., और जहां बीच-बीच में हालात सामान्य होने का एलान होता रहता है. अंजुम, जो पहले आफ़ताब थी, शहर के एक क़ब्रिस्तान में अपना तार-तार कालीन बिछाती है और उसे अपना घर कहती है. एक आधी रात को फुटपाथ पर कूड़े के हिंडोले में अचानक एक बच्ची प्रकट होती है. रहस्मय एस. तिलोत्तमा उससे प्रेम करनेवाले तीन पुरुषों के जीवन में जितनी उपस्थित है उतनी ही अनुपस्थित रहती है. ‘अपार ख़ुशी का घराना’ एक साथ दुखती हुई प्रेम-कथा और असंदिग्ध प्रतिरोध की अभिव्यक्ति है. उसे फुसफुसाहटों में, चीख़ों में, आँसुओं के ज़रिये और कभी-कभी हँसी-मज़ाक़ के साथ कहा गया है. उसके नायक वे लोग हैं जिन्हें उस दुनिया ने तोड़ डाला है जिसमें वे रहते हैं और फिर प्रेम और उम्मीद के बल पर बचे हुए रहते हैं. इसी वजह से वे जितने इस्पाती हैं उतने ही भंगुर भी, और वे कभी आत्म-समर्पण नहीं करते. यह सम्मोहक, शानदार किताब नए अंदाज़ में फिर से बताती है कि एक उपन्यास क्या कर सकता है और क्या हो सकता है. अरुंधति रॉय की कहानी-कला का करिश्मा इसके हर पन्ने पर दर्ज है.

Arundhati Roy

Arundhati Roy is a novelist, activist and a world citizen. She won the Booker Prize in 1997 for her first novel The God of Small Things. Since then, she has concentrated her writing on political issues. In response to India's testing of nuclear weapons in Pokhran, Rajasthan, Roy wrote The End of Imagination, a critique of the Indian government's nuclear policies. It was published in her collection The Cost of Living, in which she also crusaded against India's massive hydroelectric dam projects in the central and western states of Maharashtra, Madhya Pradesh and Gujarat. She has since devoted herself solely to nonfiction and politics. Roy was awarded the Sydney Peace Prize in May 2004 for her work in social campaigns and advocacy of non-violence. In June 2005 she took part in the World Tribunal on Iraq. In January 2006 she was awarded the Sahitya Akademi award for her collection of essays, 'The Algebra of Infinite Justice', but declined to accept it.