कार्ल मार्क्स

जीवन परिचय

शंकर दयाल तिवारी

978-93-80118-79-6

LeftWord Books, New Delhi, 2019

Language: Hindi

149 pages

5.5" x 8.5"

Price INR 175.00
now INR 150.00
16 days left
Book Club Price INR 122.00
now INR 100.00
16 days left
SKU
pro_00002

Maximum number of characters: 50

मार्क्सवाद एक ऐसी विचारधारा है जो सिर्फ दुनिया का विश्लेषण ही नहीं करती बल्कि उसे बदलने के हथियार भी मुहैया कराती है। इसी विचारधारा और दर्शन के जनक थे – कार्ल मार्क्स।

यह किताब कार्ल मार्क्स की जिंदगी को समझने की कुंजी है। सिर्फ राजनीतिक विचारधारा के प्रणेता मार्क्स को समझने की नहीं बल्कि अर्थशास्त्री मार्क्स, साहित्यकार-दार्शनिक, दोस्त-पिता-प्रेमी-पति मार्क्स को भी। शोषणकारी व्यवस्था के खिलाफ श्रमिकों को एकजुट करने वाला कार्ल मार्क्स बना कैसे? भूखों मरने की नौबत आने के बाद भी कैसे वो संघर्ष के मार्ग पर टिका रहा? किस तरह उसने विश्व को क्रांति का एक वैज्ञानिक फलसफा दिया? शरीर कमजोर होता रहा पर उसकी जिजीविषा और इच्छाशक्ति अदम्य रही।

सरल भाषा और मन को छू लेने वाली शैली में यह किताब कार्ल मार्क्स के संघर्षशील और प्रतिबद्ध जीवन को पाठकों के सामने लाती है।

शंकर दयाल तिवारी

शंकर दयाल तिवारी (1921-1989) जिंदगी भर कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े रहे। वे मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (CPI-M) की केंद्रीय कमिटी के सदस्य और उत्तर प्रदेश राज्य कमिटी के सचिव भी रहे। कॉमरेड तिवारी के पुत्र अतुल तिवारी ने ‘पापा’ शीर्षक लेख में उन्हें भावपूर्ण तरीके से याद किया है। ये आत्मीय याद एक कॉमरेड के जीवन और उसके कठिन संघर्षों से परिचित कराती है। संस्कृतिकर्मी अतुल तिवारी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (NSD) के स्नातक और नाटक-सिनेमा की दुनिया के जाने-माने लेखक हैं।